Monday, August 2, 2021
Home Entertainment अगर BJP की नहीं तो फिर सरकार किसकी है?- राकेश टिकैत से...

अगर BJP की नहीं तो फिर सरकार किसकी है?- राकेश टिकैत से पूछा गया सवाल तो बोले- कंपनी की सरकार चल रही है देश में

कृषि कानूनों के विरोध में किसान नेता राकेश टिकैत लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर दिख रहे हैं। वो चुनावी राज्यों में जाकर लोगों से अपील कर रहे हैं कि लोग बीजेपी को वोट न दें। हाल ही में उन्होंने बंगाल में आयोजित किसान महापंचायत को संबोधित किया और कहा कि लोग आगामी बंगाल विधानसभा चुनाव में BJP को वोट न दें। राकेश टिकैत यह भी कहते रहे हैं कि बीजेपी के नेताओं के पास अपनी कोई शक्ति नहीं है, वो चाहकर भी कुछ नहीं कर सकते। उनका कहना है कि देश में बीजेपी की सरकार नहीं बल्कि कुछेक कंपनियों की सरकार चल रही है।

हाल ही में राकेश टिकैत ने अमर उजाला से बातचीत की और कहा कि अगर देश में किसी पार्टी की सरकार होती तो अब तक बात बन गई होती। जब उनसे कहा गया कि देश में भाजपा की सरकार तो है, 303 सांसद हैं उनके। इस बात पर राकेश टिकैत ने जवाब दिया, ‘नहीं है बीजेपी की सरकार, उनके लोग तो कैद में बंद हैं। कहां बोल रहे हैं वो। कोई नहीं बोल रहा। एकाध आदमी निकल के आए तो उसे ED का और बाकी संस्थाओं का डर दिखाकर बंद कर दें ये।’

उनकी इस बात पर उनसे पूछा गया कि फिर सरकार किसकी है, अगर BJP की नहीं है तो? राकेश टिकैत का जवाब था, ‘कंपनियों की सरकार है। गोदाम किसके पहले बने। कानून बनने से पहले गोदाम बन गए। इसका मतलब पहले से ही कंपनियों को पता था कि पार्लियामेंट में क्या कानून पास होना है। कंपनी की सरकार चल रही है देश में, और हम चलने नहीं देंगे।’

राकेश टिकैत ने कहा कि एक दिन के लिए चिल्ला बोर्डर ब्लॉक किया जाएगा, कब किया जाएगा इस संबंध में उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी। राकेश टिकैत हमेशा कहते रहे हैं कि वो भूख पर व्यापार नहीं होने देंगे। आज फिर मीडियाकर्मियों से बातचीत में उन्होंने इस बात को दोहराया। उन्होंने कहा, ‘देश में एक नई विचारधारा जन्म लेगी, जो गरीबों की सुनेगी, मजदूरों की सुनेगी, किसानों की सुनेगी। दुनिया में भूख पर व्यापार न हो, हम उस कांसेप्ट पर काम करेंगे।’

राकेश टिकैत ने अपने राजनीति में आने की बात को भी सिरे से नकार दिया है और उनका कहना है कि राजनीति से देश का भला नहीं होने वाला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पेटीएम की नई प्रणाली के साथ, एसएमबी एकीकृत मंच पर बिलों का भुगतान कर सकते हैं

लघु और मध्यम व्यवसाय (एसएमबी) जो अपने उपयोगिता बिलों को मैन्युअल रूप से संसाधित करते हैं, अक्सर मानव त्रुटि के कारण कुछ भुगतान गायब हो जाते हैं। उन्हें ऐसे बिलों के भुगतान और सामंजस्य को संभालने के लिए कर्मचारियों को नियुक्त करना होगा।

निर्मला सीतारमण के MSME क्षेत्र के लिए आर्थिक उपाय

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSME) ने राजस्व में तेज गिरावट के बाद वित्तीय सहायता की मांग की, जब भारत मार्च 2020 में लॉकडाउन...

दिल्ली में रामराज्य की दस्तक? राजधानी में शराब पीने की उम्र घटी तो बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी, यूजर्स दे रहे ऐसा रिएक्शन

दिल्ली सरकार की तरफ़ से नई आबकारी नीति को मंजूरी दे दी गई है, जिसमें शराब पीने की उम्र 25 से घटाकर 21 वर्ष कर दी गई है। कैबिनेट ने नई आबकारी नीति को मंजूरी दी है, जिसमें यह कहा गया है कि राजधानी में शराब की कोई सरकारी दुकान नहीं होगी। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि दिल्ली में अब शराब की कोई नई दुकान भी नहीं खुलेगी।

ये अच्छा मौका है, सब साफ करने का- BJP नेता से बोले अर्णब; शिवसेना प्रवक्ता ने कहा- पहले नार्को टेस्ट की बात करो

रिपब्लिक टीवी पर अपने शो में अर्णब गोस्वामी ने बीजेपी नेता रामकदम से कहा कि ये अच्छा मौका है, सब साफ करने का। शिवसेना प्रवक्ता किशोर तिवारी ने इस पर कहा कि पहले नार्को टेस्ट की बात करो। उनका कहना था कि परमवीर सिंह का नार्को टेस्ट हो, तभी सारे मामले की सच्चाई सामने आएगी।

Recent Comments

%d bloggers like this: