Monday, August 2, 2021
Home Entertainment जब पेंट के डब्बे में दिया गया खाना, रो पड़े थे वरुण...

जब पेंट के डब्बे में दिया गया खाना, रो पड़े थे वरुण शर्मा; फ़िल्म पाने के लिए करना पड़ा इतना संघर्ष

राजकुमार राव, जान्हवी कपूर, वरुण शर्मा अभिनीत फ़िल्म, ‘रूही’ हाल ही में सिनेमाघरों में रिलीज हुई है और बॉक्स ऑफिस पर काफी अच्छा प्रदर्शन कर रही है। कोविड महामारी के कारण बंद पड़े सिनेमाघरों के खुलने के बाद रिलीज होने वाली बड़ी फिल्मों में से एक रूही भी थी जो अब दर्शकों का खूब मनोरंजन कर रही है। इस फिल्म में वरुण शर्मा के किरदार लखन बेदी को खूब पसंद किया जा रहा है। हॉरर कॉमेडी फिल्म रूही में वरुण के काम को क्रिटिक्स भी पसंद कर रहे हैं। वरुण शर्मा का बॉलीवुड की बड़ी फ़िल्मों में काम करने का सफर बिल्कुल भी आसान नहीं रहा। उन्होंने अपने शुरुआती करियर में बहुत मुश्किलें झेली हैं।

ऑडिशन लेने का काम करते थे वरूण शर्मा- वरुण शर्मा का बॉलीवुड इंडस्ट्री से कोई कनेक्शन नहीं था लेकिन उन्हें एक्टिंग का बहुत शौक था। जब वो मुंबई आए तो उन्होंने अपने इंटर्नशिप के दौरान फ़िल्मों के ऑडिशन लेने का काम शुरू किया था। इस दौरान उन्होंने प्रोडक्शन कंपनी के अंडर भी काम किया। वो शूटिंग के लिए घोड़े, ऊंट, लोगों के खाने- पीने आदि की व्यवस्था करने लगे। लेकिन वरुण को एक्टर बनना था इसलिए उन्होंने फिर अपना ऑडिशन देना शुरू किया।

वरुण शर्मा ने ज़ूम को दिए एक इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने बहुत रिजेक्शन झेला है। फिल्मों से लेकर उन्होंने टेली फिल्म्स के ऑडिशंस तक दिए लेकिन हर बार किसी न किसी वजह से उन्हें रिजेक्ट कर दिया जाता था।

जब पेंट के डब्बे में खाना देख रो पड़े थे वरूण- वरुण शर्मा को इसी बीच एक फिल्म मिली जिसमें उनसे कहा गया कि वो हीरो के दोस्त का किरदार निभा रहे हैं। उनसे कॉन्ट्रैक्ट साइन करवाया गया और ट्रेन से दिल्ली शूट के लिए भेजा गया। जब वो वहां पहुंचे तब उन्हें पता चला कि उन्हें बैकग्राउंड आर्टिस्ट के लिए बुलाया गया है।

वरुण शर्मा ने अपने इस अनुभव के बारे में बताया था, ‘मैंने सोचा कि कोई बात नहीं, एक्सपीरियंस मिलेगा इसलिए कर लेते हैं। एक दिन खाने की बात आई तो उन लोगों ने हमें पेंट के डब्बे में खाना दिया। पेंट में डब्बों में चावल, दाल, सब्जी, रोटी दी गई। मेरे और मेरे कुछ दोस्तों के साथ ये किया गया। ये देखकर आधे से ज्यादा लोग रो पड़े। मेरे भी आंखों में आंसू आ गए कि यार इतना नहीं कर सकते।’

इस तरह मिली ‘फुकरे’- वरुण शर्मा को मुंबई में कई सालों तक धक्के खाने पड़े तब जाकर उन्हें साल 2013 में पहली फ़िल्म, ‘फुकरे मिली थी। फ़िल्म के डायरेक्टर मृगदीप सिंह लांबा को फिल्म के लिए एक नए लड़के की तलाश थी और इसके लिए उन्होंने वरूण शर्मा को चुना। वरुण शर्मा ने भी डायरेक्टर को निराश नहीं किया और फिल्म ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया। इसके बाद से वरुण शर्मा को लगातार सफलता मिलती गई। दिलवाले, राब्ता, फुकरे रिटर्न्स, खानदानी शफाखाना, छिछोरे उनकी कुछ सफल फिल्में रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पेटीएम की नई प्रणाली के साथ, एसएमबी एकीकृत मंच पर बिलों का भुगतान कर सकते हैं

लघु और मध्यम व्यवसाय (एसएमबी) जो अपने उपयोगिता बिलों को मैन्युअल रूप से संसाधित करते हैं, अक्सर मानव त्रुटि के कारण कुछ भुगतान गायब हो जाते हैं। उन्हें ऐसे बिलों के भुगतान और सामंजस्य को संभालने के लिए कर्मचारियों को नियुक्त करना होगा।

निर्मला सीतारमण के MSME क्षेत्र के लिए आर्थिक उपाय

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSME) ने राजस्व में तेज गिरावट के बाद वित्तीय सहायता की मांग की, जब भारत मार्च 2020 में लॉकडाउन...

दिल्ली में रामराज्य की दस्तक? राजधानी में शराब पीने की उम्र घटी तो बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी, यूजर्स दे रहे ऐसा रिएक्शन

दिल्ली सरकार की तरफ़ से नई आबकारी नीति को मंजूरी दे दी गई है, जिसमें शराब पीने की उम्र 25 से घटाकर 21 वर्ष कर दी गई है। कैबिनेट ने नई आबकारी नीति को मंजूरी दी है, जिसमें यह कहा गया है कि राजधानी में शराब की कोई सरकारी दुकान नहीं होगी। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि दिल्ली में अब शराब की कोई नई दुकान भी नहीं खुलेगी।

ये अच्छा मौका है, सब साफ करने का- BJP नेता से बोले अर्णब; शिवसेना प्रवक्ता ने कहा- पहले नार्को टेस्ट की बात करो

रिपब्लिक टीवी पर अपने शो में अर्णब गोस्वामी ने बीजेपी नेता रामकदम से कहा कि ये अच्छा मौका है, सब साफ करने का। शिवसेना प्रवक्ता किशोर तिवारी ने इस पर कहा कि पहले नार्को टेस्ट की बात करो। उनका कहना था कि परमवीर सिंह का नार्को टेस्ट हो, तभी सारे मामले की सच्चाई सामने आएगी।

Recent Comments

%d bloggers like this: